पढ़ाई के लिए टाइम टेबल कैसे बनाएं? यह क्यों जरूरी है?

By | June 7, 2021

पढ़ाई के लिए टाइम टेबल कैसे बनाएं? यह क्यों जरूरी है? – आज के संबंध में बहुत सारे छात्र पढ़ लिख कर कोई अच्छी नौकरी पाना चाहते हैं। बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो दिन भर पढ़ाई करते हैं और फिर भी कहीं अच्छी जगह पर नौकरी नहीं पाते हैं जबकि कुछ लोग ऐसे होते हैं जो दिन के कुछ घंटे पढ़कर अच्छी जगह पर नौकरी प्राप्त कर लेते हैं और अच्छे मार्ग भी लेकर आते हैं। आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों होता है? दरअसल किसी भी पढ़ाई के लिए आपको एक अच्छे टाइम टेबल की आवश्यकता पड़ती है जिसके जरिए आप अच्छी तरह से सभी विषय पर ध्यान दे पाए। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे की पढ़ाई के लिए टाइम टेबल कैसे बनाएं? यह क्यों जरूरी होता है?

टाइम टेबल बनाना क्यों जरूरी होता है?

आपने अक्सर देखा होगा कि कुछ छात्र ऐसे होते हैं जो दिन में काफी घंटे पढ़ाई करते हैं लेकिन फिर भी उनके मार्क्स इतने अच्छे नहीं आते हैं जितने कि दिन में कुछ घंटे पढ़ाई करने वाले छात्रों को। यदि आप टाइम टेबल बनाकर दिन में कुछ घंटे ही अच्छी तरह से पढ़ाई करें तो आप दिनभर पढ़ने वाले लोगों से अधिक मार्क्स लेकर आ सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि टाइम टेबल आपको किसी भी विषय पर समय खर्च करने के बारे में बताता है। टाइम टेबल के अनुसार आप सभी विषय पर अच्छी तरह से ध्यान दे पाते हैं।

बहुत सारे छात्र बहुत अधिक पढ़ाई करने के बाद भी जब सफलता नहीं प्राप्त करते हैं तो वे निराश होकर बैठ जाते हैं। दरअसल किसी भी काम को करने के लिए एक अच्छे प्लान की आवश्यकता पड़ती है और टाइम टेबल आपको स्टडी प्लान बनाने में मदद करता है। टाइम टेबल के अनुसार आप सभी विषय पर अच्छी तरह से समय दे पाते हैं इसीलिए आपके अच्छे नंबर आते हैं। यदि आप दिन भर में 5 घंटे में पढ़ते हैं तो 5 विषयों को 1-1 घंटे समय दे सकते हैं।

लेकिन यदि आप का टाइम टेबल नहीं बना है तो आप एक ही विषय को 5 घंटे पढ़कर पूरा एक साथ तैयार करने लगेंगे, जिसके चलते आपके अन्य सब्जेक्ट छूट जाते हैं और उसमें कम नंबर आते हैं। किसी भी परीक्षा में अच्छे नंबर लाने के लिए आपको सभी विषयों को तैयार करने की जरूरत पड़ती है। यदि आपका कोई एक विषय भी कमजोर है तो उसमें आपके कम नंबर आएंगे।

पढ़ाई के लिए टाइम टेबल कैसे बनाएं?

किसी भी परीक्षा में सफल होने के लिए टाइम टेबल अच्छा बनाना जरूरी है। आप का टाइम टेबल ऐसा हो कि उसमें आप सभी विषय को अच्छी तरह से समय दे पाए। बहुत सारे लोग प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते हैं और उसके लिए टाइम टेबल तैयार करते हैं। लेकिन किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में सभी विषय का महत्व अलग अलग होता है। कुछ विषय से कम तो कुछ विधियों से अधिक अंक के प्रश्न पूछे जाते हैं। आपको उन्हीं के हिसाब से टाइम टेबल बनाना होता है।

बहुत सारे लोग ऐसा सोचते हैं कि टाइम टेबल बनाना बहुत ही आसान है लेकिन यह बहुत ही कठिन काम है क्योंकि इसमें आपको विधियों और उसके महत्व का विश्लेषण करना जरूरी होता है। जैसे किसी प्रतियोगी परीक्षा में मनोविज्ञान विषय से मात्र 5 अंक के प्रश्न आ रहे हैं और पर्यावरण विज्ञान से 20 अंक के प्रश्न आ रहे हैं। तो आपको पर्यावरण विज्ञान विषय पर अधिक समय देना होगा और मनोविज्ञान विषय पर कम देना होगा।

अब इसमें भी बहुत सारे लोग ऐसा सोचते हैं कि जब मनोविज्ञान विषय से कम अंक के प्रश्न आ रहे हैं तो इसे कुछ दिनों में तैयार करके पूरा कर लिया जाएगा। जबकि ऐसा नहीं है यदि आप नियमित रूप से किसी विषय की पढ़ाई करते हैं तो उससे आने वाले सभी प्रश्न आपके दिमाग में अच्छी तरह से घूमते रहते हैं।

किसी भी प्रतियोगी परीक्षाओं में 5 अंक बहुत अधिक होते हैं और इसीलिए आपको इस विषय पर भी प्रतिदिन कुछ ना कुछ समय देना पड़ेगा। इसीलिए टाइम टेबल बनाने के लिए आपको सभी विषयों के महत्व का विश्लेषण करना जरूरी है। अब हम आपको बताएंगे कि परीक्षा के लिए टाइम टेबल कैसे तैयार करें?

सबसे पहले अपना समय निर्धारित करें

सभी छात्रों को नियमित कुछ न कुछ जरूरी काम अवश्य होते हैं। इन सभी कामों की लिस्ट तैयार करने के बाद आपको अपने पढ़ाई का समय निर्धारित करना पड़ेगा और उस समय में आपको किसी भी काम के लिए नहीं सोचना चाहिए। बहुत सारे लोगों के घर में पढ़ाई के समय ही आवश्यक काम पड़ जाते हैं। इसीलिए आप उससे पहले ही निपटाने का प्रयास करें।

समय का महत्व समझें

हर व्यक्ति को 1 दिन में 24 घंटे का समय मिलता है। कुछ लोग उसी 24 घंटे में से कुछ कीमती समय निकालकर उसका सदुपयोग करते हैं और परीक्षा में टॉप करते हैं तो कुछ लोग उसी परीक्षा में फेल भी हो जाते हैं। इसीलिए आपको समय का महत्व समझना होगा और उसी के अनुसार मन लगाकर पढ़ाई करना होगा।

दैनिक कार्यों की सूची तैयार करें

हर व्यक्ति की अलग-अलग दिनचर्या होती है और उसे दिन में कई प्रकार के कार्य भी करने पड़ते हैं। इसीलिए आपको प्रतिदिन दैनिक कार्यों की सूची तैयार करनी होगी और आपको उस कार्य को करने के लिए एक समय निर्धारित करना होगा। इसके चलते आपका पढ़ाई के समय किसी भी काम को करने की स्थिति पैदा नहीं होगी। सभी काम से खाली होने के बाद तभी पढ़ाई के लिए बैठे और उसी के अनुसार टाइम टेबल तैयार करें। ध्यान रहे कि आपने जो टाइमटेबल तैयार किया है उसी के अनुसार पढ़ाई जरूर करें और उसके बीच के समय में किसी भी काम को बिल्कुल ना करें।

टाइम टेबल के अनुसार ही पढ़ाई करें

बहुत सारे लोग एक-दो दिन टाइम टेबल को फॉलो करते हैं और फिर उस में ढिलाई करने लगते हैं। कई लोग 24 घंटे में 6 घंटे पढ़ने का समय बनाते हैं और किसी दिन 4 घंटे ही पढ़ कर सो जाते हैं और सोचते हैं कि अगले दिन 8 घंटे पढ़ कर उसे कंप्लीट कर लिया जाएगा। यदि आप भी ऐसा करते हैं तो निश्चित रूप से आप खुद को ही धोखा दे रहे हैं। आपको अपने टाइम टेबल के हिसाब से नियमित पढ़ाई करना जरूरी है। प्रतिदिन का काम प्रतिदिन संपन्न करना है बहुत जरूरी है क्योंकि इससे आपको आने वाले मानसिक दबाव से बच सकते हैं।

सुबह जरूर पढ़ाई करें

पुराने समय से ही सुबह पढ़ाई करने को सबसे अच्छा समय माना जाता है। यदि आप जल्दी सो कर उठ जाते हैं तो सुबह कुछ घंटे पढ़ाई करके अपना जीवन अच्छा बना सकते हैं। इसके लिए आप रात में 11:00 बजे के लगभग सो जाएं और सुबह 5:00 बजे उठ जाएं। इसके बाद मुंह धो लें और फिर 2 से 3 घंटे पढ़ाई करने बैठ जाएं। सुबह पढ़ने से आपके दिमाग में सभी चीजें अच्छी तरह से समझ में आ जाती हैं।

इसके बाद दिन में आपको जो भी कार्य करना है उसे संपन्न कर लें और खाली समय के अनुसार टाइम टेबल को तैयार करें और उस समय अन्य विषयों को भी पढ़ें। यदि आप 24 घंटे में 8 घंटे पढ़ाई का समय निर्धारित कर लेते हैं और मन लगाकर पढ़ाई करते हैं तो किसी भी बड़े से बड़े प्रतियोगी परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं और टॉप भी कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *